235+ For the love of God shayari in hindi for engalish|भगवान के प्यार के लिए शायरी

235+ For the love of God shayari in hindi for engalish|भगवान के प्यार के लिए शायरी

for what can separate us from the love of god

किस से सीखू मैं खुदा की बंदगी,
सब लोग खुदा के बँटवारे किये बैठे है,
जो लोग कहते है परमात्मा कण कण मैं है,
वहीं मंदिर मस्जिद गुरूद्वारे लिये बैठे है,

From whom will I learn the bondage of God,
Everyone is sitting at God’s division,
Those who say that God is in every particle,
Where the temple mosque is sitting for the gurudwara,

बिना संघर्ष के कोई महान नहीं होता,
जब तक न पड़े हथौड़े की चोट,
पत्थर भी भगवान नहीं होता,

No one is great without struggle,
Until the hammer strikes,
Even a stone is not a god,

जीवन में दुख दूर करने का एकमात्र उपाय है,
कि इस सच को स्वीकार कर लो कि,
हमारा कुछ नहीं है हमारा कुछ नहीं था,
हमारा कुछ नहीं रहेगा,

The only way to get rid of sorrow in life is
that accept the fact that,
We have nothing, we have nothing
We will have nothing

मैं किसी से बेहतर करूँ क्या फर्क पड़ता है,
मैं किसी का बेहरतर करूँ बहुत फर्क पड़ता है,

I do better than anyone, what does it matter?
I do better to someone, it makes a difference

नहीं मांगता ऐ ईश्वर कि जिंदगी 100 साल की दे..दे,
भले चंद लम्हों की लेकिन बेमिसाल की दे,

I don’t ask God to give life of 100 years..
Even if for a few moments, but of unmatched,

फुर्सत नहीं इंसान को घर से मंदिर तक जाने की,
और ख्वाहिशे रखता है श्मशान से सीधा स्वर्ग जाने की,

No time for man to go from home to temple,
and wishes to go straight to heaven from the crematorium,

जो लोग ईश्वर को पाना चाहते हैं,
उन्हें वाणी मन इंद्रियों की पवित्रता और,
एक दयालु हृदय की जरूरत होती हैं,

Those who want to find God,
To them the purity of speech, mind, senses and,
A kind heart is needed

साधू बने तो मोहमाया छूटे,वैरागी बने तो छूटे तन,
हरि तेरे से सच्चा प्रेम हो जाए तो,तभी छूटे सारे मोह माया के बंधन,

If you become a sage, you lose your attachment, if you become a recluse, your body is lost.
If Hari falls in true love with you, then all the attachments of Maya will be freed,

जय हो हृदय में बसे नन्द लाल की,
जय हो हृदय में बसे बाल गोपाल की,

Hail to the heart of Nand Lal,
Hail to the heart of Bal Gopal,

कर्म अच्छे हो तो वही धर्म बन जाता है,
ऐसा ईश्वर का भक्त बन जाता है,

If the deeds are good, that becomes religion.
One becomes a devotee of God,

Leave a Reply

Your email address will not be published.