165+ Best Masoom chehra shayari in hindi|मासूम चेहरा शायरी इन हिंदी

165+ Best Masoom chehra shayari in hindi|मासूम चेहरा शायरी इन हिंदी

bewafa tera masoom chehra shayari lyrics

शाम की लाली तेरी
रंगत की याद दिलाती है,
तेरी मासूमियत ही मुझे
तेरी ओर खींच लाती है,

ये गुल सा मासूम चेहरा,
उस पर खिला रंग सुनहरा,
और क्या तारीफ करे आपकी,
आपको तो खुदा ने,
अपने हाथो से है नवाजा,

ना जाने वह बेवफा
मन में कैसे मुस्कुरा लेती है,
मासूम सूरत को याद कर
आंख मेरी अब भर आती है,

मासूम सा दिल मेरा,
मुझसे बार बार कह रहा है,
वो अपना है ही नहीं,
जिसे तूने जिंदगी बनाया ह,

कितनी मासूम होती हैं माँ की ममता,
अपने बच्चों की सलामती के लिए,
कभी मंदिर में प्रसाद चढ़ाती हैं,
तो कभी दरगाह में चादर चढ़ाती हैं,
कभी गुरुद्वारे में अरदास करती हैं,
तोकभी गिरिजाघर में प्रार्थना करती हैं,

मोहब्बत की दास्तान,
तब्दील बेवफाई में हो गई,
ना जाने उसकी मासूम
प्रेम कहानी कहां खो गई,

धोखा देती है अक्सर मासूम चेहरे की चमक,
हर काँच के टुकड़े को हीरा नहीं कहते,

न जाने दिल कब तुझे
चैन अपना दे बैठा है,
प्यार में तेरा मासूम सा
चेहरा खिल उठा है,

दिल को बेवफाई की
ऐसी चोट दे जाती है,
धोखेबाजी तो मासूम
नजरों में ही होती है,

और ना तड़पाओ, बसा लो
मुझे अपनी निगाहों मे,
खो चुका हूं खुद को तुम्हारी
इन मासूम अदाओं मे,

Leave a Reply

Your email address will not be published.